शुक्रवार, अक्तूबर 22, 2010

***आतंक वाद का उद्देश्य है क्या ?


वन्दे मातरम दोस

एक सवाल गूंजता है हरी भरी इन वादियों में,
एक सवाल मैं पूछता हूँ इन आतंक वादियों से,

आतंक वाद का देश क्या ?
आतंक वाद का परिवेश है क्या ?
आतंक वाद की भाषा क्या ?
आतंक वाद का भेष है क्या ?
आतंक वाद की शक्ल है क्या ?
आतंक वाद का उद्देश्य है क्या ?
आतंक वाद की राह है क्या ?
आतंक वाद का संदेश है क्या ?

आतंक वाद बस आतंक वाद है,
जिसको खूँ रेज़ी प्यारी है
बे मकसद खून बहाने की,
इनको लगी बीमारी है,
आतंक वाद क्या हिन्दू है?
क्या आतंक वाद है मुसलमान?
ताकत के मद में खून बहाना,
आतंक वाद का है ईमान,
दौलत ही इनका मजहब,
दौलत इनका धर्म ईमान,
दौलत की अंधी दौड़ दौड़ेते जाते,
ये हैं कुछ पागल नौजवान,

आतंक वादियों को केवल, दौलत से है प्यार बहुत,
मानवता इनकी नजर में, बेमकसद बेकार बहुत.........